नवरात्रि के छठे दिन डर और रोगों से मुक्ति के लिए करें मां कात्यायनी की पूजा

मां कात्यायनी

Share Now

चैत्र नवरात्रि के छठे दिन मां दुर्गा के छठे स्वरूप मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। माता का यह स्वरूप बड़ा ही अद्भुत है। ऐसा माना जाता है कि महर्षि कात्यायन ने मां भगवती को अपनी पुत्री के रूप में प्राप्त करने के लिए कठोर तपस्या की थी। महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवती ने उन्हें पुत्री का वरदान दिया।

तब महर्षि कात्यायन के नाम पर ही उन्होंने अपनी पुत्री का नाम कात्यायनी रखा गया। मां कात्यायनी का स्वरूप अत्यंत भव्य, दिव्य और बड़ा ही मनमोहक है। है। मां कात्यायनी शेर पर सवार रहती है। माँ कात्यायनी का स्वरूप अत्यंत चमकीला है। इनकी चार भुजाएँ हैं। बाईं तरफ के ऊपरवाले हाथ में तलवार और नीचे वाले हाथ में कमल-पुष्प सुशोभित हैं।

माता कात्यायनी की पूजा करने से मनुष्य को कठिन से कठिन कार्यो में आसानी से सफलता मिल जाती है। इनकी आराधना से डर और रोगों से मुक्ति मिलती है और सभी समस्याओं का समाधान हो जाता है। इनके पूजन से अद्भुत शक्ति का संचार होता है और दुश्मनों का संहार करने में मां हमें सक्षम बनाती हैं।

जो भक्त सच्चे मन से माता का ध्यान करते हैं उसके रोग, शोक-संताप और भय आदि का नाश हो जाता है। भगवान कृष्ण को पतिरूप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने मां कात्यायनी की पूजा की थी। माँ कात्यायनी की भक्ति पाने के लिए और परेशानियों को दूर करने के लिए नवरात्रि में छठे दिन इस मंत्र जाप करना चाहिए।

चन्द्रहासोज्जवलकरा शार्दूलवरवाहना।
कात्यायनी शुभं दद्यादेवी दानवघातिनी।।

353 thoughts on “नवरात्रि के छठे दिन डर और रोगों से मुक्ति के लिए करें मां कात्यायनी की पूजा”

Leave a Reply

Your email address will not be published.