रक्षाबंधन २०१७: राखी बांधने के लिए मिलेंगे २ घंटे ४७ मिनट, जानें

रक्षाबंधन-2017

Share Now

रक्षाबंधन २०१७: राखी बांधने के लिए मिलेंगे २ घंटे ४७ मिनट, जानें

रक्षाबंधन २०१७: राखी बांधने के लिए मिलेंगे २ घंटे ४७ मिनट, जानें। इस बार रक्षाबंधन का त्योहार सावन के आखिर दिन यानि ७ अगस्त सोमवार को पूर्णिमा के दिन मनाया जाएगा। वर्ष २०१७ का रक्षाबंधन एक खास योग लेकर आया है। ये ९ सालो के बाद ऐसा होगा कि रक्षाबंधन के दिन चंद्रग्रहण लगेगा।

रक्षाबंधन के दिन चन्द्रग्रहण के साथ-साथ भद्रा का भी साया रहेगा, जिससे राखी बांधने के लिए के केवल २ घंटे ४७ मिनट का ही समय मिलेगा। दरअसल भद्रा और सूतक होने के समय में भी शुभ कार्य नहीं किये जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि रावण की बहन सूर्पणखा ने अपने भाई रावण को भद्रा काल के लगने के समय ही राखी बांधी थी, इसलिए रावण का सर्वनाश हुआ था।

यही कारण है कि लोग भद्रा काल के समय राखी नहीं बांधते हैं। इस बार ज्योतिषियों के अनुसार यह योग है जिसके रहते ग्रहण और भद्रा के समय को ध्यान में रखते हुए राखी के लिए बहुत ही कम समय मिल रहा है। ज्योतिष गणना के अनुसार इस रक्षाबंधन पर सोमवार को ग्रहण रात्रि १०.३३ बजे से शुरु होगा जो रात्रि में १२.४८ बजे समाप्त होगा।

ग्रहण का सूतक काल दोपहर १.४० बजे से शुरु हो जाएगा। शास्त्रो के अनुसार सूतक तथा भद्राकाल में राखी नहीं बांधी जाती। अगस्त की दोपहर १ बजकर ४० मिनट पर सूतक लग जाएगा और भद्रा काल सुबह ११ बजकर २९ मिनट तक रहेगा। जिससे सुबह ११ बजकर ३० मिनट से दोपहर के १ बजकर ३९ मिनट के बीच रक्षाबंधन के लिए सही समय माना गया है।

इस बार के रक्षाबंधन में चन्द्रग्रहण के साथ भद्रा का भी साया होगा। शास्त्रों के अनुसार भद्राकाल के समय राखी नहीं बांधनी चाहिए क्यों इसे अशुभ माना जाता है। एक दूसरी मान्यता है कि भद्रा काल के दौरान भगवान शिव तांडव करते हैं जिसकी वजह से वे काफी गुस्से में होते हैं। इस बीच महादेव के क्रोध में होने के कारण कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं।

इस बार रक्षाबंधन पर भद्रा की नजर रहेगी जिस कारण से ११ बजकर ४ मिनट के बाद ही कलाई पर राखी बांधने की रस्म शुरू होगी। जैसा कि विदित है कि भद्रा को शुभ कार्य के लिए अशुभ माना जाता है, इसलिए भद्रा के समाप्त होने के बाद राखी बांधना शुभ फलदायी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *