नवरात्रि २०१८ चैत्र मास १८ मार्च से, भूलकर भी न करें ये गलतियां

नवरात्रि २०१८

Share Now

चैत्र नवरात्रि १८ मार्च से शुरू होने जा रहे हैं। इस बार नवरात्रि २०१८ में बेहद शुभ संयोग बन रहा है, इसलिए लोग ८ दिन भूलकर भी ये गलतियां न करें, अन्यथा मां नाराज हो जाएंगी। चंडीगढ़ के सेक्टर ३० में श्री महाकाली मंदिर स्थित भृगु ज्योतिष केंद्र के प्रमुख बीरेंद्र नारायण मिश्र ये जरूरी जानकारी दे रहे हैं। वर्ष में नवरात्रि दो बार आती है पहला चैत्र में और दूसरा शारदीय नवरात्रि।

वर्ष २०१८ में चैत्र नवरात्रि १८ मार्च से शुरू हो रहे हैं, जो २५ मार्च तक रहेंगे यानी इस बार नवरात्रि ८ दिन के रहेंगे। १८ मार्च को कलश की स्थापना होगी। प्रतिपदा तिथि में कलश स्थापन का विधान है। १८ को प्रतिपदा तिथि सूर्योदय से शाम ६:०८ तक है। इस बीच कभी भी कलश स्थापना की जा सकती है। इस बार शुभ मुहुर्त १८ मार्च की सुबह ६ बजकर ३१ मिनट से लेकर ७ बजकर ४६ मिनट तक का है।

इस बार चैत्र नवरात्रि २०१८ की रविवार को शुरू होने के कारण सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। नवरात्रि के साथ ही नववर्ष का प्रारंभ हो रहा है। कन्या लग्न में नवरात्र और नववर्ष का प्रारंभ होना कई संयोग बना रहा है। यह’ संयोग इस बार की नवरात्रि व्रत को और भी मंगलकारी बना रहा है। मिश्र बताते हैं कि नवरात्रि का व्रत रखने वालों को न ही अपने बाल कटवाने चाहिए और शेविंग भी नहीं करवानी नहीं चाहिए।

परन्तु इस दौरान बच्चों का मुंडन करवाना शुभ होता है। यदि आप इस दौरान कलश की स्थापना करते हैं और अखंड ज्योति जला रहे हैं तो इस समय घर को खाली छोड़कर कहीं भी न जायें। बीरेंद्र नारायण मिश्र कहते हैं कि नवरात्रि में नॉन वेज, प्याज, लहसुन आदि की मनाही है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि नवरात्रि के पूरे नौ दिन तक नींबू काटना अशुभ होता है।

विष्णु पुराण के अनुसार मां दुर्गा के इन नौ दिनों में दोपहर के समय सोना नहीं चाहिए। इससे व्रत रखने का उचित फल नहीं मिलता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *